Wednesday, July 24th, 2024

धमतरी में आयोजित मिशन अव्वल समारोह में शामिल हुए मुख्यमंत्री विष्णु देव साय

रायपुर,

बोर्ड परीक्षाओं में बेहतर परिणाम के लिए धमतरी जिले में मिशन अव्वल का नवाचार किया गया, यह बहुत प्रशंसा योग्य है। बच्चों को आगे बढ़ते देखना बहुत अच्छा लगता है। जीवन में आगे बढ़ने के लिए दो सबसे महत्वपूर्ण सूत्र हैं कड़ी मेहनत और इच्छा शक्ति। यह बात मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने धमतरी जिला प्रशासन द्वारा आयोजित मिशन अव्वल समारोह के अवसर पर मेधावी छात्र-छात्राओं के सम्मान के अवसर पर कही।

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री श्री  साय ने कहा कि धमतरी जिला प्रशासन ने दसवीं और बारहवीं के विद्यार्थियों के लिए मिशन अव्वल आरंभ किया। यह बहुत सफल रहा है। दसवीं और बारहवीं बोर्ड में जिले के बेटे-बेटियों ने बहुत अच्छे अंक हासिल किये हैं। उन्हें हम सम्मानित करने जा रहे हैं। जो इतने अच्छे रिजल्ट आये, उसके पीछे मिशन अव्वल की बड़ी भूमिका रही है। इसके अंतर्गत हर महीने टेस्ट लिये जाते थे। आखरी महीने में बच्चों को बोर्डिंग में रखकर विशेष रूप से तैयारी कराई गई। इसका अच्छा परिणाम हुआ और बहुत अच्छे नतीजे आये। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा विकास का मूल मंत्र है। शिक्षा के बिना जीवन अधूरा है। यह केवल रोजगार प्राप्त करने का माध्यम नहीं है अपितु किसी भी क्षेत्र में उन्नति करना है तो अच्छी शिक्षा बहुत जरूरी है। आप सभी बच्चे मन लगाकर पढ़िये। छत्तीसगढ़ में उच्च स्तर के शैक्षणिक संस्थान उपलब्ध हैं। आप इनका लाभ लीजिए। हमारे प्रधानमंत्री श्री मोदी जी की परिकल्पना वर्ष 2047 तक विकसित भारत तैयार करने की है। इसके अनुरूप हमें भी वर्ष 2047 तक विकसित छत्तीसगढ़ तैयार करना है और इसके लिए निश्चित रूप से शिक्षा जगत का बड़ा योगदान होगा। आप सभी मन लगाकर पढ़िये। धमतरी में विनोबा एप और स्वाध्याय एप जैसे शैक्षणिक नवाचार किये गये हैं। इसका लाभ बच्चों को अवश्य मिलेगा।

सफलता के लिए दो चीजें बहुत जरूरी है पहला इच्छा शक्ति और दूसरा कड़ी मेहनत। अभी कुछ मेधावी बच्चों के अनुभव आपने सुने, उन्होंने बताया कि कितनी कड़ी मेहनत उन्होंने की है। आप सभी सपने देखिये, आप देश के कर्णधार हैं। सपने देखिये और आगे बढ़िये। मुख्यमंत्री ने बच्चों की हौसलाअफजाई करते हुए एक पंक्ति से अपनी बात समाप्त की। वो दूर खड़ी मंजिल इंगित कर तुम्हें बुलाती है, साहस से बढ़ने वालों के माथे पर चंदन लगाती है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं भी दीं। उन्होंने कहा कि आप सभी अपनी जीवनचर्या में योग को जरूर शामिल करें। अपनी व्यस्त दिनचर्या में थोड़ा समय योग के लिए जरूर निकालें। अपने संबोधन में सांसद श्रीमती रूप कुमारी चौधरी ने कहा कि शिक्षा के महत्व को आज ही नहीं, हजारों साल से माना जा रहा है। हमारे यहां ज्ञान-विज्ञान की परंपरा रही है। बच्चों के इतने अच्छे अंक देखकर बहुत अच्छा लगता है। यह गौरवान्वित करने वाला क्षण होता है।

अपने संबोधन में विधायक श्री अजय चंद्राकर ने कहा कि स्वतंत्रता के सौ बरस पूरे होने पर विकसित भारत का जो संकल्प प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने लिया है। उसे देखते हुए छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय के मार्गदर्शन में विजन डाक्यूमेंट तैयार करने का निर्णय लिया गया और इस पर काम आरंभ हो गया है। मुख्यमंत्री जी ने इस विजन डाक्यूमेंट में सबसे ज्यादा प्राथमिकता शिक्षा को दी है क्योंकि शिक्षा बढ़िया हो गई तो सब कुछ अच्छा हो जाएगा।
इस मौके पर सुपर 30 के संस्थापक श्री आनंद कुमार भी मौजूद रहे। साथ ही इस मौके पर पूर्व विधायक श्रीमती रंजना दीपेन्द्र साहू, श्री इंदरचंद चोपड़ा, श्री श्रवण मरकाम, श्रीमती पिंकी शाह सहित अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद रहे। साथ ही कलेक्टर सुश्री नम्रता गांधी और एसपी श्री आंजनेय वार्ष्णेय मौजूद रहे।
 

इन बच्चों को किया सम्मानित-

मुख्यमंत्री श्री साय ने आज धमतरी में ‘‘मिशन अव्वल‘‘ के तहत दसवीं और बारहवीं कक्षा में 80 प्रतिशत से अधिक अंक अर्जित करने वाले विद्यार्थियों का सम्मानित किया। उन्होंने स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट विद्यालय कुरुद के कक्षा दसवीं के आयुष सोनकर और के. प्रसन्ना रेड्डी, मॉडल इंग्लिश हायर सेकेण्डरी स्कूल धमतरी के अक्षत सिन्हा, शासकीय हाईस्कूल सांकरा की कु. निधि साहू, स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट विद्यालय कण्डेल के दीपांशु यादव, सेनानी कपालफोड़ी की कु. साधना, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सिवनीकला की कु. केशिका तारक, शासकीय श्रवण बाधितार्थ बालिका विद्यालय धमतरी की कु. गंगेश्वरी सेठिया और कु. सुलोसुलमणि, बोरसी के कोमल, छिपलीपारा नगरी की कु. ललिता, जामगांव (जी) कुरूद की कु. खुशी, सोरम की कु. सानिया तथा शासकीय हाईस्कूल नगरी की कु. सुनिता को प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री श्री साय ने बारहवीं कक्षा के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भोथीडीह के समीर, डीपीएस के आदित्य बरडिया, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बोरसी के भूपेन्द्र कुमार गजेन्द्र, विद्याकुंज विद्यालय धमतरी के प्रियांशु देवांगन, महानदी एकेडमी नगरी की कुमारी ताइबा फातिमा, शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कुरूद की कुमारी हेमार, स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट विद्यालय कुरूद के महेश्वर यादव और कन्या परिसर दुगली की कु. लीलेश्वरी को सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री श्री साय ने कार्यक्रम में श्रम विभाग के मुख्यमंत्री नौनिहाल छात्रवृत्ति योजना के तहत 7594 हितग्राहियों को एक लाख 41 हजार 35 रुपए और मुख्यमंत्री नोनी-बाबू मेधावी शिक्षा सहायता योजना के तहत 119 हितग्राहियों को 6 लाख 41 हजार 500 रुपए की राशि वितरित की। मुख्यमंत्री नौनिहाल छात्रवृत्ति योजना के तहत निर्माण श्रमिकों के प्रथम दो संतानों को एक हजार रुपए से 10 हजार रुपए तक की सहायता प्रदान की जाती है। इसी तरह मुख्यमंत्री नोनी-बाबू मेधावी शिक्षा सहायता योजना के तहत निर्माण श्रमिकों के प्रथम दो संतानों में से छात्र को 5 हजार रुपए व छात्रा को 5 हजार 500 रुपए तक की सहायता राशि प्रदान की जाती है।

Source : Agency

आपकी राय

14 + 14 =

पाठको की राय