Friday, February 23rd, 2024

स्वस्थ जीवन की दिशा में: कैंसर से लड़ने के लिए बदलें अपने लाइफस्टाइल

दुनिया भर में तेजी से बढ़ रहे कैंसर के मामले आम लोगों के लिए चिंता की बात है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसको गंभीरता से लेते हुए लोगों को सावधान किया है. संगठन ने बताया है कि 2050 तक कैंसर के 3 करोड़ 50 लाख से अधिक नए मामले होंगे. ये 2022 के 2 करोड़ मामलों से 77 परसेंट अधिक है.

ये आंकड़े ग्लोबल लेवल पर कैंसर की बढ़ती गंभीरता को दिखाते हैं. एक्सपर्ट के अनुसार, सिर्फ स्मोकिंग या ज्यादा शराब पीने से ही कैंसर नहीं होता. इस बीमारी पीछे कई कारण होते हैं. एक्सपर्ट से इससे बचने के लिए डेली लाइफ में कुछ सुधार लाने के सुझाव भी दिए हैं. आइए जानते हैं कि कैसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचने के लिए डेली लाइफ में कौन कौन सी सावधानियां बरतने की जरूरत है.

भारत में कैंसर की स्थिति

भारत में भी कैंसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. इंडियन जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थ में छपी एक स्टडी के अनुसार, अगले पांच सालों में कैंसर के मामलों में 12% की बढ़ोतरी होने की आशंका है. कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर के कुछ सेल्स अनकंट्रोल्ड तरीके से बढ़ने लगते हैं. इस वजह से ये इन्फेक्शन शरीर के अन्य भागों में फैलने लगता है. ये बीमारी शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है. इस बीमारी में सेल डिवीजन की प्रक्रिया अव्यवस्थित होने लगती है.

इस ग्लोबल समस्या से बचने के लिए एक्सपर्ट्स लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने का सुझाव देते हैं. इनका पालन करके कैंसर होने के चांसेस कम किया जा सकता है. एक्सपर्ट ने बताया कि कैंसर सिर्फ तंबाकू पीने या अधिक शराब पीने से ही नहीं होता है. इसके अलावा भी कुछ चीजें हैं जो शरीर में कैंसर जैसी बीमारियों को बढ़ावा देते हैं. इससे बचने के लिए डेली लाइफ की कुछ आदतों को सुधारने की जरूरत है.

मोटापा: मोटापा कैंसर के रिस्क को बढ़ाता है. एक्सपर्ट के अनुसार कई स्टडी में ये पाया गया है कि मोटापा से ब्रेस्ट, पेनक्रियाटिक और किडनी के कैंसर के खतरे को बढ़ाता है.

शारीरिक गतिविधि की कमी: एक्सपर्ट ने बताया कि फिजिकल वर्क की कमी से भी शरीर में कैंसर का खतरा बढ़ता है. इससे ब्रेस्ट, मलाशय (Colon) और एंडोमेट्रियल कैंसर की आशंका बढ़ जाती है.

अधिक सूर्य की रोशनी में रहना: वैसे तो सूरज रोशनी अच्छे सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है. लेकिन जरुरत से ज्यादा ये रोशनी कैंसर का कारण भी बन सकती है. सूरज की अल्ट्रावायलेट विकिरण (UV rays) के संपर्क में आने से स्किन कैंसर का खतरा बढ़ता है. 

अनहेल्दी डाइट: हाई फैट और कम फाइबर वाली अनहेल्दी डाइट शरीर में कई तरह के कैंसर का खतरा बढ़ा सकती है. ऐसी डाइट से आंत, फेफड़े, प्रोस्टेट और गर्भाशय के कैंसर के चांसेस बढ़ जाते हैं. 
-एक्सपर्ट के अनुसार प्रोसेस्ड या रेड मीट (जैसे बेकन या हैम) कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं. 
-लंबे समय तक अधिक नमक खाने से भी पेट और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर चांसेस बढ़ जाते हैं.

तनाव: क्रोनिक स्ट्रेस आपके स्वास्थ्य पर नेगेटिव इंपैक्ट डालता है, जिससे कैंसर का खतरा बढ़ता है. इसलिए तनाव से बचने के उपायों पर काम करना चाहिए.

खराब ओरल हाइजीन: मुंह में पुरानी सूजन और इन्फेक्शन जो अक्सर मुंह में गंदगी का कारण भी होते हैं, ये भी कैंसर का कारण बन सकते हैं. इसलिए मुंह सफाई का भी खास ध्यान रखना चाहिए.
 

Source : Agency

आपकी राय

12 + 10 =

पाठको की राय