Monday, July 22nd, 2024

पीसी शर्मा, गोविंद गोयल, विक्रांत भूरिया समेत कई नेताओं को आयकर ने नोटिस भेजा

भोपाल

लोकसभा और राज्यसभा चुनाव के पहले आयकर विभाग सक्रिय हो गया है। इनकम टैक्स विभाग ने पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, पूर्व कोषाध्यक्ष गोविंद गोयल, झाबुआ विधायक विक्रांत भूरिया, देवाशीष जरारिया समेत कई कांग्रेस नेताओं को नोटिस दिया है। विभाग ने प्रदेश कांग्रेस के कुछ नेताओं को समन भेजकर तलब किया है। इन नेताओं को 2014 से 2021 तक की कमाई- खर्च के हिसाब के साथ बुलाया गया है। भिंड से कांग्रेस के पूर्व लोकसभा प्रत्याशी देवाशीष जरारिया और विधायक विक्रांत भूरिया ने नोटिस मिलने की पुष्टि की है।

एक के बाद एक नेताओं को आयकर विभाग से समन मिलने के कारण पार्टी में हड़कंप है। नोटिस पाने वाले नेता भोपाल से दिल्ली तक फोन घनघना रहे हैं। जानने का प्रयास कर रहे हैं कि आयकर विभाग अचानक सक्रिय क्यों हो गया है। प्रदेश कांग्रेस ने नेताओं को भरोसा दिलाया है कि समन से डरने की जरूरत नहीं है। यह भाजपा की दबाव की राजनीति है।

देवाशीष जरारिया ने बताया, उन्हें समन मिला है। 13 तारीख को हाजिर होने के लिए कहा गया है। केंद्र सरकार परेशान करने की नीयत से नोटिस जारी करवा रही है। मैं डरने वाला नहीं हूं। मालूम हो, संभावित लोकसभा प्रत्याशियों की सूची में जरारिया का नाम शामिल है। विधायक भूरिया को 21 फरवरी को तलब किया गया है।

डायरी का हिसाब इस बीच चर्चा है कि बीते विधानसभा चुनाव के पहले आयकर कार्रवाई में जब्त एक डायरी से इन नोटिसों का ताल्लुक है। बताते हैं कि इसमें 30 करोड़ रुपए से अधिक की राशि के वितरण का हिसाब है। यह राशि कहां से आई और कहां गई, यह पड़ताल आयकर विभाग के पास लंबे अरसे से लंबित है।

।छत्तीसगढ़ में इनकम टैक्स विभाग की कार्रवाई के बाद अब मध्य कांग्रेस के बड़े नेता निशाने पर हैं। इनकम टैक्स ने पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, पूर्व कोषाध्यक्ष गोविंद गोयल, झाबुआ विधायक विक्रांत भूरिया और 2019 के भिंड प्रत्याशी देवाशीष जरारिया सहित कई बड़े नेताओं को नोटिस भेजा है। विभाग ने यह नोटिस कुछ दिनों पहले दिया है। इनकम टैक्स ने इन नेताओं को दिल्ली में इनकम टैक्स अधिकारियों के सामने पेश होने को कहा है।सूत्रों का कहना है कि ये नोटिस 100 से अधिक लोगों तक गया है। प्रदेश कांग्रेस संगठन प्रभारी उपाध्यक्ष राजीव सिंह ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि जिस तरह राज्यों के सीएम, कई वरिष्ठ विपक्षी नेताओं पर ईडी, आईटी की कार्यवाही कर रही है, उसी तरह मध्य प्रदेश में भी लोकसभा चुनाव से पहले प्रदेश के नेताओं पर दबाव बनाया जा रहा है।देवाशीष जरारिया ने कहा कि इनकम टैक्स ने 2013 से 2020 तक के रिटर्न पर नोटिस भेजा है। उन्होंने कहा कि वे 13 फरवरी को नोटिस का जवाब देने दिल्ली जाएंगे। भिंड वापस लौटकर इनकम टैक्स अधिकारियों पर प्रताड़ना का केस भी दर्ज कराएंगे।

Source : Agency

आपकी राय

7 + 5 =

पाठको की राय